“ट्रैक्टर और कृषि उपकरण -कृषि ट्रैक्टर की कीमतें”

भूमि पूजन के पश्चात आप उस भूमि पर कहीं भी निर्माण कर सकते है। परंतु हर शुभ कार्य को करने के लिए एक विशेष मुहूर्त निकाला जाता है जिसे शुभ मुहूर्त कहा जाता है। भूमि पूजन के लिए भी शुभ मुहूर्त की गणना की जाती है। यहाँ हम आपको उन्ही के बारे में बताने जा रहे है। वर्ष 2018 में भूमि पूजन या नीव रखने के शुभ मुहूर्त की गणना सभी नक्षत्रों और दुष्टमुहूर्त को ध्यान में रखकर की गयी है। अगर आप भी इस वर्ष अपने नए घर, भवन या ऑफिस के निर्माण के बारे में सोच रहे है तो एक बार इन मुहूर्त को अवश्य पढ़ लें।
कृषि नीति विशेषज्ञ देविंदर शर्मा ने बताया ” सरकारों ने किसानों को उनके उचित आय से वंचित रखा है, जो किसानों का न्यूनतम समर्थन मूल्य से मिलता है। जब भी न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाने की बात होती है, तब कहा जाता है कि इसकी जरूरत नहीं है, फसलों का मूल्य कम रखना चाहिए, नहीं तो खुदरा खाद्य कीमतों में वृद्धि होगी। यानी उपभोक्ताओं को सस्ता भोजन उपलब्ध कराने के लिए किसानों को गरीब रखा गया है। ”
जैसे ही मैंने अपने कान लगाये मुझे नेहा के साथ वो दूसरी आवाज़ भी सुनाई दी। गौर से सुना तो वो अनीता दीदी थी। वो दोनों कुछ बातें कर रहे थे। मैंने ध्यान से सुनने की कोशिश की, और जो सुना तो मेरे कान ही खड़े हो गए।
मुंबई: आज से तीन साल पहले जब भारतीय रीटेलर फ्यूचर ग्रुप ने देशभर में अपने सुपरमार्केटों को सप्लाई भेजने के लिए नागपुर के छोर पर अपना वेयरहाउस (गोदाम) स्थापित किया था, उसके चारों ओर दूर-दूर तक सिर्फ चटियल मैदान ही नज़र आते थे, लेकिन अब वहां चारों तरफ ढेरों डिस्ट्रिब्यूशन सेंटर, स्टोरेज डिपो और फैक्टरियां दिखाई देती हैं…
The Bull V2 Sugarcane loader is ideal for sugar industry. It can handle 600- 800 kgs in one go. It has lifting height of 21ft and Dumping / unloading height of 16ft. Indicative Diesel consumption of tractor is maximum 4 liters per hour in said application.
रविवार की रात करीब ढाई बजे एक लोडर कानपुर से अमरूद लादकर महोबा जा रहा था। कस्बे में हाईवे पर शिवानी गेस्ट हाउस के समीप कस्बे से लौटकर घाटमपुर जा रहे ट्रैक्टर ट्राली से इसकी सीधी भिड़ंत हो गई। इस घटना में ट्रैक्टर के परखच्चे उड़ गए और ट्रैक्टर दो हिस्सों में बंटकर हाईवे में बिखर गया। दोनों वाहनों की जोरदार भिड़ंत से लोडर चालक हरिचरन उर्फ मनीष तिवारी (28) पुत्र राजेंद्र कुमार निवासी नया पुरवा सुभाष नगर महोबा की लोडर के अंदर ही मौत हो गई। घटना के बाद हाईवे में दोनों तरफ जाम की स्थिति पैदा हो गई। घटना की सूचना पाकर कस्बा इंचार्ज संजय कुमार वर्मा, एसआई रवि बैजल शर्मा, अजीत कुमार सिंह के साथ मौके पर पहुंचे। उन्होंने फैक्ट्री एरिया पुलिस चौकी इंचार्ज विनय सिंह को क्रेन लेकर मौके पर बुलाया। क्रेन आने पर लोडर में अंदर फंसे चालक के शव को बाहर निकाला गया, साथ ही सड़क में आड़े तिरछे खड़े वाहनों को हाईवे किनारे किया जिससे करीब तीन घंटे बाद आवागमन खुल सका। पुलिस ने मृतक चालक के परिजनों को मोबाइल से सूचित किया। कस्बा इंचार्ज ने बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। ट्रैक्टर चालक मौके से फरार है।
यह तकनीक सिर्फ कुश चुने हुए मॉडल्स पर ही उपलब्द है जैसे न्यू हॉलैंड 5500 और 3630 में और जॉन डियर कंपनी के 5045 डी , 5050 डी और सारे E मॉडल्स पर उपलब्द है ।नए ट्रैक्टर्स के इन मॉडल्स पर यह सुविधा फ्री में उपलब्द है लेकिन आप अपने पुराने ट्रेक्टर पर इस सुविधा का फ़ायदा उठाना चाहते है तो सिर्फ 18000 रु देकर इसे लगवा सकते है ।
साहेब, मैं तो अपने दुनिया में  मस्त था. वो तो सगे  सम्बन्धियों  ने अपने घर  का ऐसा सपना दिखाया कि दोनों भाइयों ने मिलकर उच्च ब्याज दर पर कर्ज थोड़ी सी जमीन खरीदी, जितनी जमीन में आपकी कारकेड तो छोड़िये,  आपकी अकेले की गाड़ी ही पार्क हो सकती है. धीरे-धीरे पेट काटकर कर्ज चुकाकर घर बनाना शुरू किया. ध्यान रहे, इनकम टैक्स भरता हूं तो कुल सालाना आमद-खर्च का कागज़ ऐसा है कि एक संस्था ने घर बनाने के लिए किस्तों में लोन देना शुरू किया है. इतने में  आपने कुर्सी से उठकर फिर बैठकर पूरा कुनबा बदल लिया और सुधार के नाम पर असली संकट अब शुरू हुआ है.
रा.बत्रा- जी हाँ ! उपस्थित सभी सम्माननीय सदस्यों को इन खातों की एक एक प्रति दी जा रही है। जिससे कि ब्रेक के पश्चात चाहें तो अपनी किसी भी जिज्ञासा को शांत कर सकें। ब्रेक से पहले मैं आपको एक बार और धन्यवाद देना चाहूँगा। आपने इस कंपनी को इस मुकाम तक पहुँचाने में जो सहयोग किया है उसे शब्दों में बयाँ नहीं किया जा सकता लेकिन दिलों में महसूस किया जा सकता है। मुझे आशा ही नहीं पूरा विश्वास भी है कि आप आज दिलों में सुकून और आँखों में नई आशाएँ लेकर यहाँ से जाएँगे।
एचएमटी का नमा जेहन में आते ही कई लोग घड़ीके बारे में सोचने लगते हैं। अगर आप भी ऐसा ही सोच रहे हैं तो हां यह सच है कि एचएमटी ही घड़ी भी बनाती थी और ट्रैक्टर भी बनाती है। यह कंपनी 1971 में बेंगलुरू से शुरू हुई थी।
श्रेणियाँ: लेख जिनमें August 2010 से मृत कड़ियाँ हैंअमेरिकी संस्कृतिसंयुक्त राज्य अमेरिका में स्थापित कॉमिक स्ट्रिप्सगारफ़ील्डइंडियाना संस्कृतिएंथ्रोपोमॉर्फिक पात्रों द्वारा पेश कॉमिक्समेटाफिक्शनल वर्क्स1970 दशक में आरम्भित हास्य स्ट्रिप्सअमेरिकी हास्य स्ट्रिप्स1978 कॉमिक्स के पहले पात्रहास्य स्ट्रिप्स पर आधारित संगीत
जॉन डीयर के बाद उनके पुत्र चार्ल्स डीयर ने डीयर एंड कंपनी को प्रोफेशनल बनाया। ब्रांडनेम और लोगो चुना गया। 1869 में चार्ल्स डीयर ने कंपनी का मार्केटिंग सेंटर स्थापित किया और राष्ट्रव्यापी रिटेलर्स नियुक्त किए। इसी साल कंपनी को इलिनोइस स्टेट फेयर में बेस्ट एंड ग्रेटेस्ट डिस्प्ले ऑफ प्लो के लिए सिल्वर मेडल और 10 डॉलर (प्रतीकात्मक) नकद पुरस्कार प्रदान किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *